अमित शाह का गुस्सा और बीच में ही इंटरव्यू छोड़ना कहीं गुजरात में भाजपा के बुरे दिनों का संकेत तो नहीं !

0
amit shah left the interview in middle

गुजरात भाजपा का गढ़ रहा है और पिछले लगभग 22 सालों से भाजपा गुजरात में सत्ता का शहद चाट रही है | 1995 से लेकर अब तक गुजरात को भाजपा का अभेद्य किला  माना जाता रहा है |तरह तरह के समीकरण बने और बिगड़े लेकिन भाजपा गुजरात में  बढती ही चली गई |लेकिन पिछले 22 सालों में अब पहली बार गुजरात में भाजपा को इतनी कड़ी चुनौती मिली है | भाजपा के शीर्ष के नेता भी ऐसा मानते हैं की इस बार डगर आसान नहीं है |

इंटरव्यू बिच में छोड़ क्यों भागे अमित शाह

वैसे तो पार्टी अध्यक्ष अमित शाह विधान सभा चुनाव में 150 सीटों का दावा कर रहे हैं |टेलीग्राफ के अनुसार शनिवार को दोपहर से इंटरव्यू दे रहे अमित शाह को एक इंटरव्यू के दौरान इतना गुस्सा आ गया कि वे बीच में ही साक्षात्कार छोड़कर चले गए। अहमदाबाद बीजेपी के कार्यालय के बाहर ऐसी चर्चाएं हो रही थीं कि अमित शाह बहुत ही बेकार मूड में थे। काफी समय से बीजेपी प्रवक्ता अमित शाह द्वारा बताए गए गुजरात चुनाव में पार्टी को मिलने वाली जीत के आंकड़ों को दोहराते रहे हैं लेकिन वे यह भी स्वीकार करते हैं कि इस बार का चुनाव पार्टी के सामने बहुत ही चुनौतीपूर्ण है।

तो गुजरात में राहुल गाँधी  ने भाजपा को हराने के लिए अपनाई है ये रणनीति 

नेताओं को अभी से  होने लगा है बड़ी चुनौती पूर्वाभास

वैसे तो पार्टी अध्यक्ष अमित शाह बात बात पर 150 सीटों का दावा ठोकते रहते है लेकिन शायद अंदरखाने उन्हें भी हार का डर सता रहा है | कार्यकर्ताओं को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से जुड़े गुजराती गर्व और मतदाताओं को सचेत रहने के लिए कहा गया है।पार्टी नेताओं से कहा गया है कि सर नहीं झुकना चाहिए (मोदी को शर्मिंदा मत करना)। टेलीग्राफ का कहना है कि मोदी की रैलियों से पार्टी को कोई प्रतिक्रिया मिलती दिखाई नहीं दे रही है। वहीं अमित शाह बैकरूम मैनेजमेंट पर अपना ध्यान अधिक केंद्रित कर रहे हैं। पार्टी द्वारा वरिष्ठ नेताओं से लेकर निचले स्तर के नेताओं को गुजरात की हर जगह पर चुनावों के माइक्रो-मैनेजमेंट के लिए तैनात किया गया है।

भाजपा अपने सबसे बड़े गढ़ गुजरात में जब इतनी ज्यादा चिंतित हो और इतना पसीना बहा रही हो तो इस बात से तो ये ही  अंदाज़ा लगाया जा सकता है कि :-

” गुजरात में भाजपा के अच्छे दिन जाने वाले हैं ”