अब पुराना से पुराना घुटनों का दर्द भी हो जायेगा गायब | आजमाइये ये Tips for Joint Pain 

2
newhindi.news

सौ वर्ष की उम्र में भी जोड़ रहेंगे हेल्दी | जानिए क्या है बेस्ट Tips for Joint Pain

Joint Pain अब कोई समस्या नही रहेगी अगर आपको पता है इन Tips for Joint Pain के बारे में |

जोड़ों के दर्द का नाम सुनते ही अच्छे से अच्छा व्यक्ति भी घबरा जाता है | ये समस्या है ही इतनी भयंकर एक बार किसी को ये रोग लग जाता है तो फिर उम्र भर पीछा नही छोड़ता है | हमने बहुत से लोगों को ये कहते सुना है कि बेशक भगवान कैंसर का रोग लगा दे लेकिन घुटने का दर्द यानि जोड़ों का दर्द तो किसी शत्रु को भी न दे | इसका कारण बस इतना सा है कि लोग सोचते है कि ये एक लाइलाज रोग है | लेकिन हम आपको बताना चाहते है कि कोई भी रोग लाइलाज नही होता |

‘दुनिया में हर समस्या का समाधान है और हर रोग का इलाज है’ | बस आवश्यकता है रोग के सही कारण को समझने की | रोग की जड़ का अगर पता चल जाये तो फिर हम इसका इलाज अपने घर पर भी कर सकते हैं | परन्तु एलोपेथिक के चक्कर में पड़कर हम साधारण से साधारण रोग को भी असाध्य बना बैठते हैं | आगे हम आपको कुछ आयुर्वेदिक नुक्से बताने जा रहे हैं जिनको News Hindi ने कई वैद्यों से बात करके लिखा है |

Tips for Joint Pain : 

  • हल्दी, अश्वगंधा, सौंठ व विदारीकंद इन चारों को कूटकर व इस चूर्ण को छानकर प्रतिदिन दो बार दूध के साथ सेवन करने से पुराना से पुराना जोड़ों का दर्द ठीक हो जाता है |
  • जोड़ों का दर्द शरीर में वात दोष के कुपित हो जाने के कारण होता है | इसलिए उन चीज़ों का सेवन करना लाभकारी होता है जो वात का शमन करती हैं | लहसुन एक ऐसा ही गुणकारी पदार्थ है जो वात दोष के शमन में सबसे लाभदायक माना गया है | इसके सुबह खली पेट सेवन करने से जोड़ों के दर्द में आश्चर्यजनक लाभ मिलता है |
  • मैथी भी शरीर में वातनाशक का काम करती है | मैथी को रात में आधा चम्मच की मात्रा में पानी में भिगो दें | सुबह खाली पेट इस पानी को पी लें तथा इन मैथी दानों को चबा-चबाकर खा लें | 1 महीने में प्रयाग से ही असर दिखाई देना शुरू हो जायेगा |
  • अर्जुन की छाल का काढ़ा भी अगर नियमित रूप से सुबह-शाम औषधि के रूप में पिया जाये तो यह दो से तीन महीनों में जोड़ों दे दर्द को पूर्ण रूप से ठीक कर देता है |

और अधिक नुक्से पढने के लिए Next Page पर Click करें

Previous1 of 2Next
अगला पेज