तो इन घिनौने कार्यों पर पर्दा डालने के लिए छिपा बैठा है बाबा वीरेंद्र देव दीक्षित

0
baba virendra dev dixit ke karnaame

महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल के साथ कई वकीलों ने भी आश्रम के लोगों से बात की तो बाबा वीरेंद्र देव दीक्षित को लेकर हुए चौकाने वाले खुलासे |

New Hindi News : यौन-शोषण के आरोपी बाबा वीरेंद्र देव दीक्षित के नांगलोई आश्रम में महिला आयोग की एक टीम ने आश्रम में मौजूद लोगों से पूछताछ की तो चौकाने वाली जानकारी मिली| दिल्ली महिला आयोग (डीसीडब्ल्यू) ने निरिक्षण के बाद दावा किया कि जिस तरह आश्रम को एक जेल की    तरह बनाया गया है उसको देखते हुए इस बात से इनकार नही किया जा सकता कि बाबा मानव तस्करी के घिनौने कार्य में लिप्त है | आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने खुलासा किया कि बाबा के अन्य आश्रमों की तरह यहाँ भी छः लड़कियां बंधक मिली|

एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, आश्रम के रजिस्टर को सही से मेन्टेन करके नहीं रखा गया है | रजिस्टर में न तो यह लिखा था कि लड़कियां कहां से आई हैं और न यह कि वे कब से यहां रह रहीं हैं |ये  लड़कियां नाबालिग लग रहीं हैं| सीवीसी से अनुरोध किया गया है कि उन्हें आश्रय घरों में भेजा जाए और उनकी काउंसलिंग सुनिश्चित की जाए| स्थानीय नागरिकों ने सूचना दी कि डीसीडब्ल्यू के दौरे से पहले परिसर से कई लड़कियों को हटा दिया गया था|

सीबीआई को बंद करने चाहिए सभी आश्रम

नांगलोई आश्रम में टीम ने करीब 15 महिलाओं के साथ बातचीत की लेकिन उनमें से कोई नाबालिग नहीं मिली| डीसीडब्लू के मुताबिक, स्थानीय निवासियों का कहना है कि सुबह ही 20 लड़कियों को आश्रम से ले जाया गया है|  मालीवाल ने कहा, “ऐसा प्रतीत हो रहा है कि बाबा मानव तस्करी का गिरोह चला रहा है| सीबीआई को भारत के सभी जगहों पर दीक्षित द्वारा चलाए जा रहे आश्रम में छापे मारने चाहिए और उन्हें बंद कराना चाहिए| छापों में देरी होने से बाबा को अपने कार्यो पर पर्दा डालने का समय मिल जाएगा| सभी महिलाओं और लड़कियों को तुरंत ही बचाया जाना चाहिए|

यह भी पढ़ें -: OMG ! इन 5 बॉलीवुड सितारों पर भी लग चुके हैं यौन-शोषण के आरोप

पिछले सप्ताह डीसीडब्ल्यू ने दीक्षित द्वारा चलाए जा रहे दो विभिन्न आश्रमों से 45 नाबालिग लड़कियों को बचाया था| आश्रमों में आध्यात्मिक शिक्षा के नाम पर महिलाओं और नाबालिग लड़कियों को कथित रूप से अवैध तरीके से रखा गया था| दिल्ली हाईकोर्ट ने इस मामले में सीबीआई जांच का आदेश दिया है और रोहिणी इलाके में आश्रम में महिलाओं और लड़कियों की शिकायत पर कार्रवाई न करने को लेकर दिल्ली पुलिस को फटकार लगाई थी| महिलाओं ने अपनी शिकायत में कहा था कि अध्यात्मिक मार्गदर्शन देने के नाम पर उनके साथ दुष्कर्म किया गया|