आयुर्वेद : स्ट्रोंग बॉडी बनानी है तो ऐसे करें अश्वगंधा और शतावर के चूर्ण का सेवन |

0
benefits of ashwagandha and shatavari in hindi

New Hindi News : अश्वगंधा और शतावर के चूर्ण के सेवन के हैं हैरान करने वाले फ़ायदे आज के ज़माने में स्वस्थ व ह्रष्ट-पुष्ट शरीर का   मालिक होना किसी चैलेंज से कम नही है| तमाम तरह के उपाय करने के बाद भी बहुत से युवाओं की स्ट्रोंग बॉडी नही  बन पाती| ऐसे में वो स्ट्रोंग बॉडी बनाने के लिए हानिकारक बाजारू उत्पादों के चक्कर में पड़कर अपना पैसा व स्वास्थ्य दोनों गवां देते हैं| क्योंकि केमिकल वाले ये उत्पाद शरीर के लिए   हानिकारक होने के साथ साथ बहुत महंगे भी हैं| ऐसे में यदि आपको आयुर्वेद के विषय में   थोड़ी बहुत भी जानकारी है तो आपको अश्वगंधा और शतावर जड़ी-बूटियों के बारे में आवश्य ही सुना  होगा|

ऐसे तैयार करें यह चमत्कारी चूर्ण

अश्वगंधा की जड़ और शतावर को आप किसी भी पंसारी की दुकान से खरीद सकते हैं| दोनों औषधियों को अच्छी तरह सुखाकर और साफ़ करके बराबर मात्रा में पीस लें| इस पीसे हुए चूर्ण को किसी एयर टाइट जार में डालकर रखें| इसे प्रतिदिन दो टाइम दूध के साथ सेवन करें| एक बार में 5 ग्राम की मात्रा सेवन करें | अच्छा होगा यदि आप इसके सेवन से पहले किसी अनुभवी चिकित्सक की सलाह भी ले लें | यह चूर्ण आपको जबरदस्त ताकत देगा| सम्यक आहार-विहार के साथ कुछ ही दिनों के नियमित सेवन से स्ट्रोंग बॉडी पा सकते हैं|

यह भी पढ़ें -:  बिना एक्सरसाइज और बिना दवाई ऐसे करें एक महीने में अपना 20 किलो वज़न कम

अश्वगंधा और शतावरी कमजोर, दुबले-पतले और कम वजन वाले व्यक्तियों, जिनका काम करने का मन नहीं करता, खाना हजम नहीं होता, शारीरिक क्षीणता, वीर्य विकार, यौन विकार जैसी समस्‍याएं होती हैं उनके लिए दोनों औषधियां किसी चमत्‍कार से कम नहीं है। खासकर जो युवा बिना किसी दवा के आकर्षक बॉडी पाना चाहते हैं वह इस आयुर्वेदिक औषधि का सेवन कर सकते हैं। आयुर्वेद के अनुसार, अश्‍वगंधा और शतावरी के नियमित सेवन से दुर्बल व्‍यक्ति भी बलवान हो सकता है|

अश्वगंधा के औषधीय गुण

  • शरीर को ताकत, बल, यौवन, जोश प्रदान करने के लिए और आलस और थकान दूर करने में अश्वगंधा का प्रयोग किया जाता है|
  • रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए इसका प्रयोग किया जाता है|
  • तनाव कम करने के लिए और अनिद्रा यानि की जिन्हें नींद नहीं आती इसका प्रयोग उनके लिए लाभदायक सिद्ध होता है|
  • नपुंसकता को दूर करने, कामुकता को बढाने, लिंग वृद्धि और सेक्स संबंधी समस्याओ को दूर करने के लिए अश्वगंधा का प्रयोग किया जाता है|
  • खून की खराबी, पेट के कीड़े और पाचन क्रिया ठीक करने में लाभदायक होता है|

शतावर के औषधीय गुण 

  • शतावरी की जड़े उँगलियों जैसी दिखाई पढ़ती है। इनकी संख्या 100 या सौ से अधिक होती है इसलिए इसे शतावर कहते है|
  • जिन व्यक्तियों में कमजोरी और निर्बलता, धातु दुर्बलता, नपुंसकता, शारीरिक क्षीणता है उनके लिए शतावरी अति गुणकारी है|
  • पुरुष और महिला दोनों इसका प्रयोग कर सकते है, दोनों के लिए फायदेमंद होता है|
  • महिलाओ के लिए ये औषधि सर्वोत्तम होती है, आयुर्वेद की मानें तो उन्हें इसका सेवन जरूर करना चाहिए|

यह भी पढ़ें -: माँ के पेट में इन कारणों से बच्चा बन जाता है किन्नर ! माँ को रखना चाहिए इन बातों का ध्यान ताकि…