लालू ने कोर्ट में रखी अजीब मांग ! जज ने कहा- ‘इतनी पॉवर तो मेरे पास भी नही है|’

0
cbi judge shivpal singh refused to allow more than 3 people to meet lalu in a week

चारा घोटाला में 3.5 साल की जेल व 5 लाख जुर्माने की सजा मिली है लालू को 

New Hindi News : चारा घोटाले में 3.5 साल की जेल व 5 लाख रूपये के जुर्माने की सजा भुगत    रहे बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राजद    प्रमुख लालू प्रसाद यादव बुधवार को एक बार फिर सीबीआई जज के सामने पेश हुए| लालू ने सुनवाई के बाद सीबीआई के जज श्री शिवपाल के सामने अपना दर्द बयाँ किया| उन्होंने कहा कि रांची की बिरसा मुंडा जेल के अधिकारी उनके साथ बहुत बुरा बर्ताव कर रहे हैं|    वो उसे एक हफ्ते में उन्हें तीन से ज्यादा लोगों से मिलने नहीं दे रहे हैं|

लालू प्रसाद यादव ने जज को उनकी (जज की) ताकत का एहसास दिलवाते हुए कहा कि आपमें बहुत शक्ति है जज साहब आप किसी को भी झुका सकते हैं| जेल अधिकारी मुझसे सप्ताह में केवल तीन लोगों को ही मिलने की परमिशन देते हैं| इस मामले में उन्हें कुछ रियायत दी जाये | इस पर जज ने कहा कि इतनी पॉवर उनके पास नही असली ताकत तो विधायिका के पास है|

लालू को स्पेशल ट्रीटमेंट नही

जज शिवपाल सिंह के सामने लालू यादव दूसरे चारा घोटाले मामले में पेश हुए थे| यह आठवीं बार है जब लालू जेल में हैं| लेकिन यह पहली बार है जब जेल अधिकारी उनपर नियम-कानून थोप रहे हैं| भाजपा शासित रघुबर दास की झारखंड सरकार ने राजद अध्यक्ष को किसी भी तरह का स्पेशल ट्रीटमेंट देने से मना कर दिया है|

बुधवार को लालू ने कोर्ट में एक और दलील देते हुए कहा कि मकर संक्रांति महोत्सव रविवार को है| उन्होंने कहा- हम इसे दही-चूड़ा खाकर धूम-धाम तरीके से मनाते हैं| इसी वजह से उन्हें समर्थकों से मिलने दिया जाए| मगर जज ने उनकी इस बात को नजरअंदाज करते हुए एक फीकी मुस्कान देते हुए कहा कि वो इस बात को सुनिश्चित करेंगे कि उन्हें जेल में दही-चूड़ा मिल जाए|

यह भी पढ़ें -: नरेन्द्र मोदी के बाद ये हैं फेसबुक पर सबसे ज्यादा लाइक्स पाने वाले नेताजी !

बता दें कि लालू यादव हर साल मकर संक्रांति के मौके पर राजद के नेताओं और राजनीतिक दोस्तों के लिए बिहार में ग्रैंड तरीके से दही-चूड़ा कार्यक्रम का आयोजन करते हैं| मगर इस साल उनका परिवार पटना में उनकी गैर-मौजूदगी में इस कार्यक्रम का आयोजन नहीं करेगा|