राहुल गाँधी ने पीएम मोदी को बताया अमिताभ से भी बेहतर अदाकार |

0
gujrat election rahul gandhi says pm modi an actor better than amitabh bachchan

सौराष्ट्र क्षेत्र के  सावरकुंडला में एक चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए राहुल ने पीएम मोदी को निशाने पर लिया | कहा-‘चुनावों से दो-तीन दिन पहले फिर कैसे इस अभिनेता की आंखों से आंसू टपक पड़ते हैं’

New Hindi News : गुजरात के अपने चुनावी अभियान में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गाँधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर सीधे तौर निशाना साधा है |उन्होंने कहा कि पीएम   मोदी चुनावों से दो-तीन दिन   पहले कैसे एक अभिनेता की तरह आँखों से आंसू निकालना शुरू कर देते हैं | और इसके लिये उन्हें किसी कांटैक्ट  लैंस की  भी ज़रूरत   नही पड़ती | और पीएम मोदी को अमिताभ बच्चन से भी बड़ा एक्टर बताया | राहुल गाँधी सौराष्ट्र क्षेत्र के विसावदर, सावरकुंडला और अमरेली में रैलियों को संबोधित करते हुए राहुल ने पाटीदारों को लुभाने की कोशिश कर रहे थे | राफेल करार पर ‘चुप्पी’ और चुनिंदा उद्योगपतियों से ‘करीबी’ के लिए मोदी पर हमला बोला |

साल 2015 में पाटीदार आरक्षण आंदोलन के समय  14 पाटीदारों की  पुलिस फायरिंग में मारे जाने की घटना का जिक्र करते हुए राहुल ने विसावदर में कहा कि यदि कोई अपनी आवाज उठाता है, तो गुजरात में या तो उसकी पिटाई कर दी जाती है या उसे पुलिस की गोलियों खानी पड़ती  है |

मोदी पर लगाये भावुक भाषणों द्वारा जनता को ठगने के आरोप

नोटबंदी के बाद एक भावुक भाषण में पीएम  ने जनता से कहा था कि यदि वह काला धन वापस नहीं ला सके तो लोग उन्हें सूली पर लटका देना | चुनाव प्रचार के दौरान भावुक होकर प्रधानमंत्री ने हाल में कहा था कि गुजरात उनकी मां है और वह गुजरात के बेटे हैं | गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी को रबर स्टैंप बताते हुए राहुल ने कहा कि अमित शाह गुजरात में  सरकार चला रहे हैं |

उद्योगपतियों को ज़मीन देने का भी लगाया आरोप

उन्होंने भाजपा शासित गुजरात में किसानों की समस्याओं और बेरोजगारी के मुद्दों पर मोदी सरकार की आलोचना की |कांग्रेस उपाध्यक्ष ने आरोप लगाया कि गुजरात में मोदी जी के कुछ मित्रों को सारी जमीन दे दी गई जबकि किसानों को उनके हाल पर छोड़ दिया गया | उन्होंने अपने भाषण के दौरान कुछ गांवों के नाम का भी जिक्र किया |उन्होंने दावा किया कि मोदी सरकार ने संसद का शीतकालीन सत्र आयोजित करने में इसलिए देरी की क्योंकि मोदी गुजरात चुनाव से पहले राफेल करार और जय शाह के मुद्दे पर चर्चा करने के लिए तैयार नहीं हैं |

पीएम मोदी की ओर इशारा करते हुए राहुल ने कहा कि वो  हर मुद्दे पर बोलेंगे लेकिन यह नहीं बताएंगे कि गुजरात में अपने उत्पाद के लिए किसानों को कितने रुपए मिलते हैं, कर्ज माफी हुई कि नहीं या काले धन को सफेद कैसे कर लेते हैं |