आचार्य चाणक्य के बारे में रोचक जानकारियां, जो अभी तक आपने कहीं नही पढ़ी होगी |

0
interesting facts about acharya chanakya ,आचार्य चाणक्य की मौत कैसे हुई थी

New Hindi News :आचार्य चाणक्य के बारे में रोचक जानकारियां – आचार्य चाणक्य जैसा राजनीती का विद्वान आज तक कोई नही हुआ| आज भी भारत में ही नही अन्य देशों में लोग चाणक्य नीति बड़े चाव से पढ़ते हैं| अपने तेज़ दिमाग के कारण चाणक्य ने नन्द वंश के अत्याचारी शासन का अंत करके  एक साधारण बालक चन्द्रगुप्त मौर्य को एक चक्रवर्ती राजा बना दिया| उनकी   नीतियों का ही परिणाम था कि विश्व विजय  सपना देखने वाले सिकंदर को भी भारत में   आकर पराजय का सामना करना पड़ा| जानिए आचार्य चाणक्य के बारे में रोचक जानकारी ……..

आचार्य चाणक्य का संक्षिप्त परिचय

1.आचार्य चाणक्य का जन्म एक ब्राह्मण कुल में हुआ था | इनके पिता चणक पेशे से एक शिक्षक थे| इसी कारण इनका नाम चाणक्य पड़ा| और कोटिल गोत्र का होंने के कारण कोटिल्य नाम से भी जाने जाते थे| जन्म के समय पिता ने इनका नाम विष्णुगुप्त रखा था|

2.चाणक्य ने अपनी शिक्षा तक्षशिला विश्व विद्यालय से प्राप्त की और बाद में यहीं पर शिक्षक बन गये| आरम्भ से ही इनकी रूचि राजनीती में थी|

3.कुछ समय बाद चाणक्य मगध की राजधानी पाटलिपुत्र आ गये| वे नन्द वंश के दरबार में एक ख्यातिप्राप्त विद्वान बन गये| लेकिन कुछ समय बाद उनके नन्द से मतभेद हो गये | एक बार नन्द ने चाणक्य का भरी सभा में अपमान कर दिया| इसके बाद उन्होंने दरबार छोड़ दिया और अपनी शिखा खोलकर प्रतिज्ञा की कि जब तक वो नन्द वंश का अंत नही कर देंगे शिखा नही बांधेगे|

4.इसके बाद चाणक्य ने चन्द्रगुप्त मौर्य को चुना और बहुत कम उम्र में उसने नन्द वंश को हराकर पाटलिपुत्र की सत्ता हासिल की| यंही से मौर्य राजवंश का उदय हुआ|चाणक्य की ही नीतियों के कारण मौर्य साम्राज्य उस समय सबसे शक्तिशाली साम्राज्य बन|

5.बुद्धिमता के मामले में आचार्य चाणक्य का कोई तोड़ नही था वह ऐसी गुप्त योजनायें बनाता था कि जब तक कोई कुछ समझ पाता वो अपने कार्य को पूरा कर चूका होता था| उसके इस सीक्रेट प्लान की भनक उसके साथियों को भी नही लगती थी| कई बार तो चन्द्रगुप्त भी उनका असली प्लान नही जान पाता था|

ये भी पढ़ें -: चाणक्य नीति : इन तीन लोगों की भलाई करने पर व्यक्ति भयंकर दुखों से घिर जाता है

6.चाणक्य इतना दूरदर्शी व्यक्ति था कि उसका प्लान कभी यदि दुर्भाग्य से फेल भी हो जाये तो खुद के बच निकलने का रास्ता पहले बना लेता था|

Next Page पर Click करके जानिए कैसे हुई आचार्य चाणक्य की मृत्यु का रहस्य 

Previous1 of 2Next
अगला पेज