फेरों के वक़्त हुआ कुछ ऐसा कि दुल्हन ने कर दिया शादी से इंकार और कही ऐसी बात कि सब….

0
kota dowry case bride denied to marry with greedy groom

शादी का पूरा मंडप सजा था, बारात भी आई थी | लेकिन एक वक्त पर दुल्हन ने सात फेरे लेने की बजाय लिया ये बड़ा फैसला

New Hindi News : वर पक्ष ने जब दुल्हन के पिता से एन वक्त पर दहेज़ की राशि बढ़ाने की मांग की तो दुल्हन ने उनसे शादी नही करने का फैसला लिया | बात है कोटा राजस्थान की, जहाँ शहर के मशहूर डॉक्टर अनिल सक्सेना की बेटी डॉक्टर राशि सक्सेना की शादी हो रही थी | बारात भी आ चुकी थी कि लड़के वालों की तरफ से और अधिक दहेज़ देने की डिमांड की जाने लगी | इस बारे में दुल्हन के पिता ने अलग ले जाकर दुल्हन बनी राशि से बात की तो राशि ने स्पष्ट तौर पर शादी से मना कर दिया |

दुल्हन ने बताई पूरी दास्ताँ

राशि सक्सेना के मुताबिक, मैं शादी से बहुत खुश थी और बृजराज पैलेस में मेरी सहेलियों के साथ बैठी थी। सात फैरे लेकर मुझे मेरा दूल्हा डोली में बैठाकर ले जाने वाला था और मन में बस उसी के ख्याल चल रहे थे | चंद घंटों पहले पापा-मम्मी टेंशन में मेरे पास आए और बोले- राशि बेटा, हमें आपसे बात करनी है, आप तुरंत अकेले चलिए |पापा-मम्मी मुझे अकेले कार में ले गए और बताया कि दूल्हे पक्ष वाले दहेज मांग रहे है तो मैं हैरान रह गयी |

दुल्हन को वरमाला पहना रहा था दुल्हा फिर अचानक कुछ ऐसा हुआ कि दुल्हे की हो गई मौत….

इस बारे में राशि ने दुल्हे से बात की तो उसने जवाब दिया कि मुझे ज्यादा कुछ पता नही बस तुम सोच कर जल्दी बताओ | यह बात राशि को इतनी चुभ गयी कि उसने शादी के लिए इंकार कर दिया | राशि के मुताबिक  पापा ने कार रोकी और मेरी तरफ देखते हुए पूछा कि बेटा तेरा क्या फैसला हैं ? क्या डिमांड पूरी करनी चाहिए? सच में मुझे बिल्कुल पता नहीं था कि पापा-मम्मी की मेरे होने वाले सास-ससुर से क्या बात हुई ? बस जाने कहां से इतनी हिम्मत आई और मैंने सीधे बोल दिया की दूल्हे और उसकी बरात को वापस भेज दो, मुझे यह शादी नहीं करनी हैं |

समाज की परवाह करती तो जीवन नरक बन जाता

राशि ने बताया कि अगर उस वो वक्त मम्मी-पापा की इज्जत… समाज क्या कहेगा… मुझसे कौन शादी करेगा…. इस टाइप के फालतू सवाल दिमाग में लाती तो जिंदगी भर दुख पाती और पापा को दुखी करती।  मै उम्रभर नरक भोगती । मेरा हर बेटी से यही कहना है कि दहेज के दानव का अंत शादी के पहले उसी वक्त कर दो जब वो मुंह फाड़ रहा हो | राशि का यह कदम हर दहेज़ लोभी के मुह पर करारा तमाचा है |