अब LED बल्ब से मिलेगी 10GB/सेकंड की इन्टरनेट स्पीड ! 4G स्पीड को भूल जायेंगे आप

0
li fi technique for 10gb per second internet speed will start soon
li fi technique for 10gb per second internet speed will start soon

LED बल्ब से 1KM तक की रेंज तक LI-FI तकनीक से ले सकेंगे 10GB प्रति सेकंड की स्पीड से इन्टरनेट का मज़ा 

New Hindi News : इन्टरनेट का इस्तेमाल करने वालों के लिए ये सबसे बड़ी खुशखबरी है| अब LED बल्ब से 1KM तक की रेंज तक LI-FI तकनीक से ले सकेंगे 10GB प्रति सेकंड की स्पीड से इन्टरनेट का मज़ा | कुछ   समय पहले जब सबसे 4G स्पीड का इन्टरनेट आया था तो इन्टरनेट यूजर्स के चेहरे पर काफी ख़ुशी देखने को मिली थी|   लेकिन समय के साथ साथ इन्टरनेट यूजर्स को ये स्पीड भी कम लगने लगी है| अब जल्द आपको बेहद तेज़ स्पीड से इन्टरनेट का मज़ा मिलने वाला है|

इस तरह काम करगी LI-FI तकनीक

लाइट फिडेलिटी एक हाई स्पीड तकनीक है जो विजिबल लाइट कम्यूनिकेशन के जरिए डेटा का ट्रांसमिशन करती है। कहने का मतलब है कि यह तकनीक लाइट्स का इस्तेमाल करते हुए काफी तीव्र गति से डेटा का आदान-प्रदान कर सकती है। जर्मन वैज्ञानिक हेराल्ड हास ने इस नई तकनीक लाई-फाई को ईजाद किया है। एक वार्ता के दौरान हास ने वायरलेस राउटर्स के रूप में लाइटबल्ब्स के इस्तेमाल के बारे में अपनी सोच रखी।

li fi technique for 10gb per second internet speed will start soon
li fi technique for 10gb per second internet speed will start soon

यह भी पढ़ें -: घर बैठे सिर्फ 5 मिनट में अपने मोबाइल नंबर को इस तरीके से करें अपने आधार कार्ड से लिंक !

हाल ही में एक प्रोजेक्ट के तहत इन्फर्मेशन ऐंड टेक्नॉलजी मिनिस्ट्री ने एक नई तकनीक का सफल टेस्ट किया है। इस नई तकनीक को लाई-फाई का नाम दिया गया है। यह तकनीक स्मार्ट सिटी में काम आएगी। इस तकनीक से 1km तक के इलाके में 10GB प्रति सेकंड की स्पीड से डाटा ट्रांसफर किया जा सकेगा।

यह भी पढ़ें -: अब गुरुत्वाकर्षण बल से मिलेगी मुफ्त में बिजली, ग्रेविटी लाइट से जगमग होगी दुनिया !

भारत में इस टेक्नोलॉजी को विकसित करने के लिए आइआइटी मद्रास में एक प्रोजेक्ट तैयार किया गया है| इस प्रोजेक्ट पर काम चल रहा है| कहा जा रहा है कि LED लाइट्स बनाने वाली कंपनी फिलिप्स भी इस प्रोजेक्ट में खास भूमिका निभा रही है| सबसे पहले इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ साइंस अपने इस प्रोजक्ट का इस्तेमाल बेंगलुरु में करना चाहता है|