तो प्राचीन काल में इस प्रकार मर्दों को आकर्षित करती थी ये खूबसूरत रानियाँ. इनका तरीका सच में बहुत अजीब होता था

0
mard ko aakrshit karne ke trike

आजकल के पति पत्नियों के रिश्ते में इतना खुलापन है के वो एक दुसरे के साथ अपनी सारी ख्वाहिशें खुलकर शेयर करते हैं. एक तरह से ये रिश्तों में मजबूती के लिए सही भी है की दोनों एक दुसरे को पूरा जाने और उके बाद एक दुसरे की भावनाओं को खुलकर समझे और पूरा करें. लेकिन क्या आप जानते हैं की प्राचीन काल में जब पति पत्नी एक दुसरे के साथ इतना खुलकर और घुलमिलकर नहीं रहते थे तब वो कैसे एक दुसरे की भावनाओं का ख्याल रखते होंगे. प्राचीन भारत में पति पत्नी के रिश्तों को जानने के लिए अनेक ऐतिहासिक और पौराणिक ग्रन्थ मौजूद हैं. लेकिन आज हम आम जन की नहीं बल्कि शाही खानदान की रानियों की बात कर  रहे हैं.

दोस्तों जैसा की आप जानते ही हैं की प्राचीन काल में राजा महाराजा कई कई शादियाँ करते थे. जो रानी ज्यादा खूबसूरत और शारीरिक तौर फिट होती थी वही रानी राजा के सबसे करीब होती थी. राजा के सबसे करीब होने का मतलब है पूरे महल में उसी रानी का रौब और रुतबा होना. तो भला कौन रानी राजमहल में ऐसा रुतबा पाना नहीं चाहती होगी. इसके लिए हरेक रानी अपने आप को एक दुसरे से ज्यादा खूबसूरत दिखाना होता था और इस काम के लिए रानियाँ अपनाती थी ये प्राकृतिक तरीके :

दूध और गुलाब की पत्तियों के पानी में नहाना  :

mard ko aakrshit karne ke trike

रानियाँ साधारण पानी की बजाय दूध और गुलाब की पत्तियां मिले पानी में नहाती थी. क्योंकि इस प्रकार के पानी में नहाने से त्वचा मुलायम होती है और चमक आती है तो यही कारन है की रानी महारानी साधारण पानी की बजाय इस प्रकार के पानी में नहाना पसंद करती थी.

खास तरह के इत्र का उपयोग करती थीं

mard ko aakrshit karne ke trike

आजकल हम खुशबु पाने के लिए डीयो और प्रफयूम का प्रयोग करते हैं लेकिन क्या आपको मालूम है प्राचीन काल में खुशबु पाने के लिए खास तरह के फूलों से बने इत्र का प्रयोग किया जाता था. इस इत्र का प्रयोग रानियाँ अपने बदन और कपड़ों को महकने के लिए करती थी.

फिट रहने के लिए खेलती थी खास तरह के खेल

mard ko aakrshit karne ke trike

 

किसी भी स्त्री या पुरुष के सुंदर और आकर्षक दिखने के लिए जरूरी है को वो सबसे पहले शारीरिक तौर पर फिट हो. जैसा की हम जानते हैं की पुराने समय में जीम या फिटनेस सेंटर तो होते नहीं थे ऐसे में रानियाँ खुद को फिट रखने के लिए खास तरह के खेल खेलती थी जैसे की तलावरबाज़ी और घुड़सवारी.

राजाओं को आकर्षित करने के तरीके

mard ko aakrshit karne ke trike

दिनभर रानियां खुद को खूबसूरत वस्त्रों में ढक कर रखती थींं. तस्वीरों में आप देख ही सकते हैं कि रानियों के वस्त्र कितने भारी-भरकम हुआ करते थे. लेकिन अपने राजाओं को आकर्षित करने की खातिर शयन कक्ष में रानियां इन भारी-भरकम कपड़ों को निकाल दिया करती थीं और रोमांटिक कपड़े पहनती थीं जिनसे राजा उनकी ओर आकर्षित हो सके.