नाईट शिफ्ट में काम करने वाले कम उम्र में ही हो जाते हैं यौन-दुर्बलता का शिकार | शोध में हुआ खुलासा

0
night shift mein kaam karne se aati hai yaun durbalta

New Hindi News : आजकल की भौतिकवादी जीवन शैली में हर कोई अपनी लाइफ फाइनेंसियल रूप से सिक्योर करना चाहता है| इसके लिए व्यक्ति दिन-रात मेहनत करने से भी नही चुकता| लेकिन क्या आपको मालूम है कि अधिक दिनों तक नाईट शिफ्ट में काम करने से आपके स्वास्थ्य पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है| रात वैसे भी सोने के लिए ही होती हैं| रात में जागना मतलब धीरे-धीरे अपनी सेहत का विनाश करना|

वैज्ञानिकों द्वारा किये गए एक शोध में पाया गया कि नाइट शिफ्ट में काम करने वाले पुरूषों में विभिन्न प्रकार के यौन रोग जैसे नपुंसकता, शीघ्रपतन, शुक्राणुओं की कमी आदि रोग सामान्य लोगों की अपेक्षा अधिक होने का खतरा बढ़ जाता है| इससे व्यक्ति के अन्दर यौन सम्बंध बनाने की इच्छा में भी कमी आती है| चिडचिडा स्वभाव होने के कारण इसका असर व्यक्ति के दाम्पत्य जीवन पर भी पड़ता है|

सावधानी के साथ करें नाईट शिफ्ट

जब आपकी नौकरी इस तरह की है जहां आपको रात की शिफ्ट में भी काम करना पड़ता है। तो ऐसे में आपको अत्यधिक सावधानी की आवश्यकता होती है। साथ‍ ही ये जानना भी जरूरी है कि शिफ्टिंग को किस तरह से मैनेज करें। शिफ्ट में काम करने वाले लोगों को आम लोगों की तुलना में कैंसर जैसी घातक बीमारी भी अधिक होने की संभावना होती है|

स शोध के प्रमुख शोधकर्ता प्रोफेसर मैरी ऐलिस पेरेंट्स ने बताया कि रात के समय काम करने और प्रकाश के संपर्क में आने से शरीर में नींद वाले हार्मोन मेलाटोनिन की कम मात्रा बनती है, जिससे मनोचिकित्सकीय बदलाव आते हैं जो ट्यूमर के जन्म को बढ़ावा देते हैं। पेरेंट्स ने एक बयान में कहा कि रात में सोते वक्‍त या प्रकाश की गैर मौजूदगी में आधी रात के समय शरीर में इस हार्मोन का स्राव होता है और यह हार्मोनों की कार्यप्रणाली तथा रोग प्रतिरोधक क्षमता में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है|

इस रिर्पोट में कहा गया है कि शिफ्ट में काम करने वालों के शरीर का आंतरिक चक्र गड़बड़ा जाता है। इससे विभिन्न यौन रोग  होने का खतरा भी बढ़ जाता है। वैज्ञानिकों के अनुसार आंतरिक चक्र शरीर की विभिन्न कोशिकाओं को अलग-अलग समय में अलग-अलग हार्मोन के उत्सर्जन का संकेत का नियंत्रण करता है।