थैली वाले आयोडीन नमक से आती है नपुंसकता इसीलिये खाएं प्रतिदिन सिर्फ ये नमक !

0
rock salt for good health

आयुर्वेद में सेंधा नमक को सबसे अच्छा माना गया है | खाने में रोज़ इसका प्रयोग दिलाता है कई बिमारियों से राहत |

Rock Salt for Good Health:

प्रकृति में यदि हम सबसे स्वादिष्ट पदार्थ की बात करें तो वह है नमक | क्योंकि भोजन में चाहे हजारों प्रकार के मसाले डालें लेकिन अगर उसमे नमक नही डाला तो दुनिया का कोई बावर्ची उस भोजन को स्वादिष्ट नही बना सकता | नमक न केवल स्वाद को बढाता है बल्कि हमारे शरीर को कई मिनरल्स, लवण आदि के रूप में पोषक तत्व भी उपलब्ध करवाता है | आजकल हम  जो नमक बाज़ार से लाकर खाते हैं आयोडीन युक्त बनाने के लिए उसमे कई प्रकार के कैमिकल मिलाये जाते हैं | जो हमारी सेहत के लिए खतरा बनते हैं | ऐसे में सेंधा नमक इसका सबसे अच्छा विकल्प हो सकता है | इसका रंग थोडा हल्का गुलाबी होता है |इसे पहाड़ी या लाहोरी नमक भी कहा जाता है | इसे सबसे शुद्ध नमक माना जाता है |

आयुर्वेद में बताया गया है इसका महत्व :

आयुर्वेद के अनुसार सेंधा नमक वात, पित, कफ़ को शांत करने वाला होता है | यह स्वास्थ्य की दृष्टि से उत्तम है | इसके सेवन से कभी भी उच्च रक्तचाप की समस्या नही होती | समुद्री नमक जिसका हम अपने घरों में सेवन करते हैं उसको आयोडीन युक्त बनाने के उसमे कई खतरनाक कैमिकल डाले जाते हैं | प्रसिद्ध वैज्ञानिक व समाजसेवी और आयुर्वेद के महान ज्ञानी श्री राजीव दीक्षित के अनुसार समुद्री नमक खाने से नपुंसकता आती है क्योंकि इससे हमारे शरीर में आयोडीन की मात्रा बढ़ जाती है |

सेंधा नमक के लाभ : पढ़िए सेंधा  नमक के क्या-क्या लाभ हैं ………….

उत्तम पाचक है सेंधा नमक :

सेंधा नमक सबसे उत्तम पाचन का कार्य करता | नींबू के साथ सेंधा नमक का सेवन हमारे पाचन-तन्त्र के लिए रामबाण है | हाजमे को दरुस्त करके भोजन का पूर्ण रस निकालने में मदद करता है |

लकवा रोग में उपयोगी :

लकवा की बीमारी में यदि आप रोगी का खाने वाला नमक बदल देंगे तो मरीज़ पर पॉजिटिव प्रभाव पड़ता है | यह प्रयोग इस बीमारी को जल्दी रिकवर करता है |

भूख बढ़ाने वाला है सेंधा नमक :

सेंधा नमक के सेवन से पाचन दरुस्त हो जाता है इसिलए भूख भी खुलकर लगती है | अपच, कब्ज़, गैस, एसिडिटी ये समस्याएं आजकल के लाइफस्टाइल के कारण ये आम हो चुकी हैं | ऐसे में एक चुटकी सेंधा नमक इन सभी समस्याओं से छुटकारा दिलाता है |

थाईराइड  में सेंधा नमक :

थाईराइड की बीमारी का सम्बंध हमारे इस्तेमाल किये जाने वाले नमक से है | यदि हम खाने में सेंधा नमक का इस्तेमाल करने लगते है तो जीवन में कभी भी इस बीमारी के शिकार नही होंगे |

दांतों की सफाई :

सेंधा नमक में हल्दी मिलाकर दांतों व मसूढ़ों पर हल्की मालिश करने से दांत चमक उठते हैं और मसुढे मजबूत हो जाते हैं |