पूजा में भूलकर भी न जलाएं अगरबत्ती फ़ायदे की जगह उठाना पड़ सकता है नुकसान

0
use of agarbatti in pooja is injurious,अगरबत्ती के नुकसान और फायदा

हिन्दू धर्म में देवी-देवतायों की पूजा के लिए प्राचीन काल से ही धूप-दीप जलाये जाते हैं | लेकिन आजकल लोग धूप के स्थान पर अगरबत्ती का प्रयोग करने लगे हैं जो सही नही है

आजकल धूप के स्थान पर अगरबत्ती का प्रयोग पूजा में खूब किया जाता है | लेकिन हम आपको बता दें अगरबत्ती में बांस की सींक का प्रयोग किया जाता है और शास्त्रों में बांस को जलना निषेध बताया गया है | ऐसे में अगरबत्ती जलाकर की गयी देवी-देवताओं की पूजा शुभ फल नही देती | माना जाता है की अगरबत्ती जलाने से पितृ दोष लगता है और यही कारण है की आज के समय में अधिकांश लोग किसी न किसी कारण परेशान रहते है |शास्त्रों में कहीं भी अगरबत्ती के प्रयोग का वर्णन नही है | यहाँ हम  आपको अगरबत्ती जलाने से होने वाले नुक्सान से परिचित करवाएंगे |

शास्त्रों के अनुसार बांस जलाने के नुकसान

use of agarbatti in pooja is injurious

अगरबत्ती  बनाने में बांस का प्रयोग किया जाता है और बांस को जलाया नही जाता |  यह धार्मिक व वैज्ञानिक दोनों रूप से सही नही है |  जिस बांस की लकड़ी का उपयोग हम चिता में जलाने के लिए भी नहीं कर सकते उसी बांस से बनी अगरबत्ती का उपयोग पूजा में करना निषेध माना गया है | कहा जाता है की यदि बांस की लकड़ी से चूल्हा जलाया गया तो वंश नष्ट होने से कोई रोक नहीं सकता | ऐसी मान्यता भी है कि बांस जलाने से भाग्य का नाश हो जाता है। बांस का होना भाग्यवर्धक है लेकिन उसे जलाने से दुर्भाग्य घटित होता है |

माँ लक्ष्मी की पूजा करें इन स्पेशल तरीकों से और पायें आपर धन संपदा 

वैज्ञानिक कारण

वैज्ञानिकों अनुसार बांस को जलाने से हमारे स्वास्थ्य पर प्रतिकूल असर पड़ता है | बांस को जलाना घातक होता है |बांस में लेड व हेवी मेटल बहुत अधिक मात्र में मौजूद रहता जिसको जलाने पर लेड आक्साइड बनाता है जो की सेहत के लिए हानिकारक होता है |अगरबत्ती के जलाने से उत्पन्न हुई सुंगंध के प्रसार में फैथलिट् नाम के विशिष्ट केमिकल का प्रयोग किया जाता है, हमारे द्वारा साँस लेने से वो शरीर में प्रवेश करता है और जो सेहत के लिए हानिकारक होता है | इनकी थोड़ी मात्रा भी कैंसर व दिमाग  के आघात का कारण बनती है | इसकी थोड़ी सी मात्रा भी लीवर को नुकसान पहुंचाती है |