14 फरवरी को क्यों मनाया जाता है वैलेंटाइन डे ? जानिए इसके पीछे की सच्ची कहानी |

0
valentine day history in hindi

वैलेंटाइन डे की पूरी कहानी हिन्दी में 

New Hindi News : क्या आपको मालूम है कि 14 फरवरी को वैलेंटाइन डे क्यों मनाया जाता है ? क्या है वेलेंटाइन दिवस का इतिहास ? संत वेलेंटाइन कौन था जिनकी याद में ये दिवस मनाया जाता है? आज हम आपको  बताने जा रहे हैं  वैलेंटाइन डे की पूरी कहानी | 14 फरवरी का यह दिन हर साल प्यार करने   वालों के लिए किसी सेलिब्रेशन से कम नही है| जैसे-जैसे यह दिन    नजदीक आता है वैसे-वैसे युवा दिलों की धड़कन बढ़ जाती है|

क्या है वेलेंटाइन दिवस का इतिहास

वैलेंटाइन डे का इतिहास जानने के लिए हमे तीसरी शताब्दी के इतिहास की तरफ रुख करना पड़ेगा| 12 वीं शताब्दी में यूरोप में एक पुस्तक लिखी गयी ‘ऑरिया ऑफ जैकोबस डी वॉराजिन’ नामक पुस्तक में वैलेंटाइन डे के बारे में स्पष्ट लिखा गया है| पुस्तक में बताया गया है कि तीसरी शताब्दी में सन्त वैलेंटाइन एक महान पुरुष हुए| उस   समय रोम में एक सनकी शासक सम्राट क्लॉडियस का शासन था| उन्होंने अपने राज्य में किसी भी सेना के व अन्य अधिकारीयों के शादी करने  पर   रोक लगा   दी | सम्राट क्लॉडियस  का तर्क था कि शादी करने के बाद व्यक्ति घर परिवार में ही उलझकर रह जाता है | सेना में या राजकाज के कार्यों  अपना दिमाग कम लगा पाता है| इसलिए उसके राज्य में कोई भी सरकारी अधिकारी या कर्मचारी शादी नही कर सकता|

सम्राट क्लॉडियस के इस मुर्खतापूर्ण फैसले का संत वैलेंटाइन ने विरोध किया और लोगों की शादियाँ करवानी शुरू कर दी| संत वैलेंटाइन का मानना था इससे समाज में व्यभिचार बढेगा इसलिए लोग शादी करें व अपना घर-बार बसायें| लोग सम्राट क्लॉडियस के आदेश के बावजूद संत वैलेंटाइन से   प्रभावित हो रहे थे और शादियाँ कर रहे थे| इस बात का पता जब सम्राट क्लॉडियस को चला तो उसने संत वैलेंटाइन को बुलाया और उस पर राजद्रोह का आरोप लगाकर फांसी पर चढ़ा दिया| उस दिन 14 फरवरी थी | इसलिए इस दिन को हर साल 14 फरवरी को वैलेंटाइन डे के रूप में मनाया जाने लगा|

14 फरवरी को लोग प्यार के दिन के रूप में मानते हैं| इस दिन अपने प्रियतम को प्रिय भेंट दी जाती हैं|